नाबार्ड योजना

नाबार्ड का पूरा नाम नेशनल बैंक ऑफ़ एग्रीकल्चर एंड रुरल डेवलपमेंट (National Bank for Agriculture and Rural Development) है। इसे हिन्दी में राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) कहा जाता है। यह बैंक ग्रामीण क्षेत्र के कारोबारियों के लिए समर्पित है। 

ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के बहुत कम अवसर उपलब्ध होते हैं। जो होते भी हैं उनमे बहुत कम आमदनी होती है। ऐसे ग्रामीण कारोबारी अपना कारोबार तो बढ़ाना चाहते हैं लेकिन उपयुक्त धन की कमी के चलते अपना बिजनेस बढ़ा नहीं पाते हैं। 

नाबार्ड बैंक ऐसे ही ग्रामीण कारोबारियों को आर्थिक सहयोग देने के लक्ष्य को लेकर शुरु किया गया बैंक है। नाबार्ड बैंक द्वारा समय – समय पर योजना चलाकर ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले कारोबारियों की आर्थिक सहयोग लोन के रुप में किया जाता है।

नाबार्ड द्वारा एक योजना चलाई जा रही है। इस योजना के तहत डेयरी खोलने की चाहत रखने वालों को और पहले से डेयरी चलाने वालों को 25% सब्सिडी पर लोन मुहैया कराया जाता है। नाबार्ड की इस योजना का नाम डेयरी उद्यम विकास योजना (Dairy Entrepreneurship Development Scheme – DEDS) है।

अगर आपके पास पहले से ही कोई डेयरी हैं और आप उस डेयरी का विकास करना चाहते हैं तो भी उसके लिए नाबार्ड से लोन मिलता है। इसी के साथ जानकारी के लिए बता दूं कि देश की प्रमुख नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (एनबीएफसी) ZipLoan से डेयरी बिजनेस का विकास करने के लिए 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन* में मिलता है। आइये DEDS योजना के बारें में विस्तार जानते हैं।

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

Icon1

न्यूनतम कागजात

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं है

Icon4

प्री-पेमेंट चार्जेंस फ्री

6 EMI का भुगतान करने के बाद

Icon3

सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन

रकम आपके बैंक खाते में

डेयरी उद्यम विकास योजना (DEDS) क्या है?

यह नाबार्ड यानी नेशनल बैंक ऑफ़ एग्रीकल्चर एंड रुरल डेवलपमेंट (National Bank for Agriculture and Rural Development) द्वारा चलाई जा रही योजना है। इस योजना के तहत दुग्ध का बिजनेस करने वाले कारोबारियों को लोन के तौर पर आर्थिक सहायता दी जाती है।

डेयरी उद्यम विकास योजना शुरु करने के पीछे केन्द्र सरकार का बहुत अहम योगदान है। देश में दुधारू पशुओं से रोजगार की लगातार बढ़ती संभावनाओं के बीच केंद्र सरकार ने नाबार्ड बैंक के द्वारा डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) शुरू की है।

इस योजना के तहत कोई भी व्यक्ति लोन लेकर दुग्ध का कारोबार शुरु कर सकता है। खास बात यह है कि जिन लोगों के पास पहले ही दुग्ध कारोबार है, उन्हें भी डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के तहत लोन मिलता है। 

भारत में डेयरी बिजनेस की बढ़ती संभावना को देखते हुए केंद्र सरकार ने साल 2018-19 में डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के लिए 323 करोड़ रुपये का बजट रखा था। यह रकम वर्तमान बढ़ गई गई है।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत कितना लोन मिलता है?

इस योजना के तहत मिलने वाला लोन मूल रुप से पशुओं की संख्या पर निर्भर होता है। अगर आप 10 दुधारू पशुओं की डेयरी खोलते हैं तो आपको इस प्रोजेक्‍ट के लिए 7 लाख रुपये तक प्राप्त हो सकता है। 

खास बात यह है कि आपको नाबार्ड की योजना डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के तहत लोन की राशि पर आपको 25% तक सब्सिडी भी मिलती है। 

जैसे अगर आपको 7 लाख रुपये लोन मिलता है तो इस पर 1.75 लाख रुपये की सब्सिडी मिलेगी। मतलब आपको सिर्फ 5 लाख 25 हजार रुपये ही वापस करना होगा।

लोन परा मिलने वाली सब्सिडी 25-33 फीसदी होती है। समान्य वर्ग और ओबीसी वर्ग के लाभार्थियों को 25 प्रतिशत तक सब्सिडी मिलती है और एससी – एसटी वर्ग को 33 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जाती है।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना से संबंधित महत्वपूर्ण बातें 

  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत न्यूनतम 2 पशुओं के साथ दुग्ध बिजनेस शुरु कर सकते हैं। 
  • इस योजना के तहत अधिकतम 10 दुधारू पशुओं के साथ बिजनेस कर सकते हैं।
  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत एक पशु के लिए केंद्र सरकार 17,750 रुपये की सब्सिडी देती है। 
  • इस योजना के तहत एससी – एसटी वर्ग के लोगों लोगों को एक पशु पर 23,300 रुपये सब्सिडी दी जाती है।
  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के तहत दुग्ध उत्पाद (मिल्‍क प्रोडक्‍ट) बनाने की यूनिट शुरू करने के लिए भी सब्सिडी दी जाती है। 
  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत आप दुग्ध उत्पाद की प्रोसेसिंग के लिए उपकरण खरीद सकते हैं।
  • दुग्ध से प्रोडक्ट बनाने वाली मशीन खरीदने के लिए 25 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जाती है। अगर किसी मशीन की कीमत 13.20 लाख रुपये है तो इस मशीन पर 25 फीसदी यानी 3।30 लाख रुपये की कैपिटल सब्सिडी मिल सकती है।
  • इस तरह का कोल्ड स्टोरेज बनाने के लिए भी सब्सिडी दी जाती है। कोल्ड स्टोरेज पर भी 25 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाती है। अगर कोल्ड स्टोरेज बनाने में 33 लाख रुपये का खर्च आता है तो इस पर कुल 8.25 लाख रुपये की सब्सिडी मिल सकती है।

 

ZipLoan से मिलता है बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन 

ZipLoan कंपनी फिनटेक सेक्टर की प्रमुख गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) - नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी NBFC प्रमुख है जिससे कारोबारियों को 7.5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन सिर्फ 3 दिन* में बिना कुछ गिरवी रखे मिलता है। 

बिजनेस लोन की उपयोग कारोबारी अपने बिजनेस में जरूरी उपकरण खरीदने के लिए, वर्किंग कैपिटल मैनेज करने के लिए, नई जगह रेंट पर लेने के लिए या अन्य किसी जरूरत को पूरा करने के लिए के लिए कर सकते हैं। 

कारोबारी चाहें तो बिजनेस लोन से पिछले बिजनेस के नाम पर दूसरी जगह पर कोई और बिजनेस शुरु कर सकते हैं। नये वर्करों को काम पर रख सकते हैं। 

कारोबारियों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए ZipLoan द्वारा बेहद न्यूनतम शर्तों पर 5 लाख तक बिजनेस लोन मुहैया कराया जाता है। बिजनेस लोन की न्यूनतम शर्ते निम्न हैं:

बिजनेस लोन के लिए शर्तें

  • बिजनेस 2 साल से अधिक पुराना हो। 
  • बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख से अधिक हो। 
  • बिजनेस के लिए सालाना डेढ़ लाख से अधिक की आईटीआर फाइल होती हो।
  • बिजनेस की जगह या घर की जगह में से कोई एक खुद के नाम पर हो। (यह माता – पिता, भाई – बहन, पति – पत्नी, पुत्र – पुत्री के नाम पर हो तो भी मान्य किया जाता है।)

 

जो कारोबारी इन आसान शर्तों को पूरा करते हैं वह बहुत कम कागजी दस्तावेजों पर ZipLoan से 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन प्राप्त कर सकते हैं।

ZipLoan से बिजनेस लोन के लिए जरूरी कागजत 

  • क्लिनिक का रजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र
  • 9 महीने का बैंक स्टेटमेंट
  • फाइल की गई आईटीआर की कॉपी
  • घर या बिजनेस की जगह में से किसी एक का मालिकाना हक का प्रूफ। (यह माता – पिता, भाई – बहन, पति – पत्नी, पुत्र – पुत्री इत्यादि में से किसी के नाम पर हो तो भी मान्य किया जाता है।)

 

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने के फायदें

बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन: जहां बैंक या दूसरी कंपनियों से लोन लेने के लिए प्रॉपर्टी के पेपर गिरवी रखना पड़ता है वहीं ZipLoan से 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन लेने के लिए कुछ भी गिरवी रखने की जरूरत नहीं होती है। 

प्री पेमेंट चार्जेस फ्री: अधिकतर बैंक और लोन देने वाली कंपनी लोन तय समय से पहले क्लोज करने पर चार्ज लगाती हैं वहीं ZipLoan का बिजनेस लोन 6 महीने बाद प्री पेमेंट चार्जेस फ्री है। 

सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन: अगर आपको भूख आज लगे और खाना दो दिन बाद मिले तो कैसा लगेगा? जाहिर सी बात है कि अच्छा नहीं लगेगा। ठीक इसी तरह जहां बैंक और दूसरी कम्पनियां लोन देने में लंबा समय लगाती हैं वही ZipLoan से सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन मिल जाता है। 

टॉप-अप लोन की सुविधा उपलब्ध है: ZipLoan कंपनी द्वारा टॉप-अप लोन की सुविधा भी दी जाती है। टॉप-अप के तौर पर 2.5 लाख तक लोन और अधिक मिल जाता है। यहां यह बताना जरूरी है कि टॉप-अप लोन उन्हीं को मिलता है जिनकी 9 मंथली ईएमआई ठीक तरह से कटी होती है।  

ICICI-Prudential-Internal-page

बुनियादी समस्याओं का हल

राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?