महिला समृद्धि योजना क्या है

वर्तमान में केन्द्र सरकार में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में सरकार काम कर रही है। प्रधानमंत्री पद पर नरेंद्र मोदी जी काबिज हैं। नरेंद्र मोदी जी पीएम बनने से पहले गुजरात जैसे राज्य के 3 बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

गुजरात को विकसित बनाने और सहकारी योजनाओं के जरिये गुजरात राज्य की महिलाओं को आर्थिक तौर समर्थ बनाने में नरेंद्र मोदी जी का बहुत बड़ा योगदान है। अब जब नरेंद्र मोदी जी देश के प्रधानमंत्री हैं तो वह पूरे देश की के लोगों को सशक्त बनाने के तरफ आगे बढ़ रहे हैं।

महिला समृद्धि योजना केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना है। इस योजना में वयस्क ग्रामीण यानी 18 साल से अधिक की उम्र की ग्रामीण महिलाओं के लिए बचत कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस बचत कार्यक्रम को केन्द्र सरकार द्वारा प्रोत्साहन दिया जाता है।

इस योजना के तहत ग्रामीण वयस्क महिला अपने गाँव/पंचायत के डाकघर में खाता खोलकर एक वर्ष में कम से कम 300 रुपये जमा करना होता है। महिलाओं द्वारा जमा धनराशि पर केन्द्र सरकार द्वारा 24 प्रतिशत तक सालाना ब्याज देने का प्रावधान है।  

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

Icon1

न्यूनतम कागजात

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं है

Icon4

प्री-पेमेंट चार्जेंस फ्री

6 EMI का भुगतान करने के बाद

Icon3

सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन

रकम आपके बैंक खाते में

महिला समृद्धि योजना के बारें में विस्तार से जानकारी

इस वैश्वीकरण यानी ग्लोबलाइजेशन के दौर में बहुत सी चीजों में बदलाव आया है। इस बदलाव के पीछे समय की मांग और इंसान को इंसान के रुप में समझने की शिक्षा का बहुत बड़ा योगदान है। पहले हमारे देश में महिलाओं को दोयम दर्जे का नागरिक समझा जाता है। 

फिर एक समय ऐसा आया जब महिलाओं को घर के लिए सजावट का सामान समझा जाने लगा। लेकिन 80 का दशक आते – आते महिलाएं अपनी पहचान बनाने लगीं। महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ने लगीं। तब लोगों को समझ आया कि महिलाएं भी पुरुषों के सामान ही हैं। पुरुषों से किसी मामले में कम नही हैं।

शहरी क्षेत्र में तो स्थिति बहुत सुधरने लगी लेकिन फिर भी ग्रामीण इलाकों में महिलाओं को लेकर सोच अभी भी पूरी तरह से नहीं बदली है। ऐसे में ग्रामीण महिलाओं को अभी भी पुरुषों के ऊपर ही आश्रित रहना पड़ता है। पुरुषों पर आश्रित रहने की वजह से महिलाओं की आर्थिक स्वतंत्रा बाधित होती है। 

यह स्वाभाविक भी है। क्योंकि, जब पुरुष कमाता है तो वह अपने पैसों को अपने अनुसार खर्च करना चाहता है। उसका मन किया तो तो महिला को पैसा दिया, नहीं मन किया तो महिला को पैसा नहीं दिया। ऐसे महिलाएं आर्थिक से परजीवी हो जाती हैं। 

केन्द्र सरकार द्वारा ग्रामीण महिलाओं को आर्थिक से रुप समर्थ बनाने के लिए एक योजना शुरु हुई है। इस योजना का नाम महिला समृद्धि योजना है। इस योजना में ग्रामीण महिलाओं को अपने नजदीकी बैंक या डाकघर में महिला समृद्धि खाता खोलना होता है। 

इस खाता यानी महिला समृद्धि खाता सालाना कम से कम 300 रुपये जमा करना होता है। अगर कोई महिला महिला समृद्धि खाता में सालाना 300 रुपये जमा करती हैं, तो केन्द्र सरकार द्वारा उस 300 रुपये 24 प्रतिशत ब्याज दिया जायेगा।

इसे इस तरह समझे: 100 रुपया पर 24 प्रतिशत होता है 24 रुपया। इसी तरह 300 रुपये पर 24 प्रतिशत ब्याज होता है: 24+24+24= 72 रुपया। यानी 300 रुपये पर सरकार द्वार 72 रुपये हर साल जमा किया जायेगा। 

इसी तरह जैसे – जैसे जमा रकम बढ़ती जाएगी, वैसे – वैसे ब्याज की रकम बढ़ती जाएगी। इस तरह देखें तो ग्रामीण महिलाओं के लिए यह योजना एक शानदार आर्थिक सुधार योजना है। इस योजना के तहत महिलाएं खाता खोलकर बेहतर ब्याज की रकम इक्कठा कर सकती हैं।

महिला समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए पात्रता 

  • लाभार्थी महिला की उम्र 18 साल से अधिक होना चाहिए।
  • महिला के पास सरकार द्वारा जारी कोई भी पहचान पत्र होना चाहिए।
  • महिला समृद्धि योजना का लाभ लेने के लिए महिला के पास निवास प्रमाण पत्र होना चाहिए। अगर निवास प्रमाण पत्र नहीं है तो महिला खुद से भी पत्र लिखकर अपने को अमुख ग्राम की निवासी बना सकती हैं।
  • अगर अभार्थी का आधार कार्ड होगा तो सिर्फ आधार कार्ड से ही काम हो जायेगा। अन्य किसी कागजात की जरूरत नहीं होगी।

महिला समृद्धि योजना के बारें में महत्वपूर्ण जानकारी 

  • महिला समृद्धि योजना के तहत खाता खोलने वाली महिला को अपनी उम्र एवं अपने निवास स्थान को साबित करने के लिए किसी सरकारी बाबू या मुखिया – सरपंच के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ती है। लाभार्थी महिला अपनी उम्र एवं अपना निवास पता आवेदन पत्र में स्वयं प्रमाणित कर सकती है।
  • महिला समृद्धि खाता में कम से कम 4 रुपया एक साल के भीतर जमा करना होगा और अधिकतम एक साल में 300 रुपया जमा करना होता है। मतलब 4 रुपये से कम और 300 रुपये अधिक पैसा जमा नहीं किया जाता है। 
  • महिला समृद्धि खाता में अगर एक साल 300 रुपया जमा रहने पर महिला समृद्धि खाताधारक महिला को 125 रूपया ब्याज के तौर पर सरकार की तरफ से दिए जायेंगे। इस हिसाब से पूरे 12 महीने तक 300/- रू जमा रहने पर जमाकर्ता महिला को 375 रुपये दिए जायेंगे।
  • खास बात यह है कि महिला समृद्धि खातादारी महिला 12 महीने पूरे होने से पहले भी अपने द्वारा जमा किया गया पैसा निकाल सकती है।
  • यदि कोई महिला समृद्धि खाताधारी महिला 12 महीने पूरे होने से पहले अपना रूपया निकालना चाहती हैं तो वह ऐसा एक साल में अधिकतम दो बार कर सकती हैं। किन्तु यहां ध्यान रखने वाली बात यह है कि महिला समृद्धि खाता से न्यूनतम 20 रुपये और अधिकतम 300 रुपये निकाला जा सकता है। रुपये 4 गुणक में निकाला जा सकता है। 
  • महिला समृद्धि खाता में अगर 300 रुपये  से अधिक जमा कर दिया जाए तो अधिक जमा पर भी 25 प्रतिशत वार्षिक ब्याज मिलेगा नहीं। खाते में प्रोत्साहन सहित 300 रूपए से अधिक की राशि नहीं होनी चाहिए, क्योंकि महिला समृद्धि योजना खाते में 300 रूपए से अधिक पर प्रोत्साहन नहीं दिया जाता है।
  • महिला समृद्धि खाताधारी महिला चाहें तो अपने खाते में किसी को भी नोमिनेट कर सकती हैं।
  • सरकारी योजना - महिला समृद्धि खाता हस्तान्तरणीय नहीं है। मतलब एक बार किसी महिला के नाम से महिला समृद्धि खुल जाता है तो उसे किसी अन्य महिला के नाम पर ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है। 
  • महिला समृद्धि खाताधारी महिला यदि अपना स्थायी पता बदलती हैं तो वह अपना पहला खाता बंद करने के बाद ही नया खाता खोल सकती है।
  • सरकारी स्कीम - महिला समृद्धि खाताधारी महिला एक साथ में एक से अधिक खाता नहीं खोल सकती हैं।
  • महिला समृद्धि योजना के अंतर्गत खाताधारी महिला को दुसरे किसी योजना में खाता खोलने मनाही नहीं है। मतलब महिला चाहें तो किसी दूसरी योजना में खाता खोल सकती हैं।
ICICI-Prudential-Internal-page

बुनियादी समस्याओं का हल

राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?