मुद्रा लोन प्रोजेक्ट रिपोर्ट

एमएसएमई उद्योग क्षेत्र का विकास करने के लिए और नया लघु उद्योग स्थापित करने के लिए मुद्रा लोन योजना की शुरुआत की गई है। मुद्रा का पूरा नाम माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी (MUDRA) है। इस योजना के तहत अधिकतम 10 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन मिलता है। मुद्रा लोन लेने के लिए मुद्रा लोन प्रोजेक्ट रिपोर्ट प्रस्तुत करना अनिवार्य होता है।

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

Icon1

न्यूनतम कागजात

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं है

Icon4

प्री-पेमेंट चार्जेंस फ्री

6 EMI का भुगतान करने के बाद

Icon3

सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन

रकम आपके बैंक खाते में

मुद्रा लोन प्रोजेक्ट रिपोर्ट क्या है?

मुद्रा खुद एक एनबीएफसी है। लेकिन, इस योजना के तहत सरकारी बैंक, प्राइवेट बैंक, सहकारी बैंक और एनबीएफसी से लोन मिलता है। लेकिन, सभी जगह प्रोजेक्ट रिपोर्ट चाहिए होता है। प्रोजेक्ट रिपोर्ट एक बिजनेस का लेखा – जोखा होता है। उसमें लिखा होता है कि कौन सा बिजनेस है, लागत कितना है और मार्जिन कितना होगा इत्यादि से संबंधित जानकारी दर्ज होता है। रिपोर्ट का प्रारूप साफ और समझने में आसान होना चाहिए।

मुद्रा लोन प्रोजेक्ट कैसे तैयार करें?

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन प्रोजेक्ट तैयार करने में निम्नलिखित जानकारियों को शामिल करना होता है-

  • उद्योग का उद्देश्य – इसमें यह बताया जाता है कि उद्योग का उद्देश्य क्या है और आप कितना फोकस होकर कार्य कर रहे हैं।
  • विशेषज्ञता का क्षेत्र – इसमें यह दर्शाया जाता है कि आप किस क्षेत्र में विशेषज्ञता रखते हैं, जिसपर आप कार्य करने वाले हैं।
  • बजट – इसमें यह उल्लेख किया जाता है कि आपने बिजनेस प्लान पर कितना बजट निर्धारित किये हैं।
  • व्यावसायिक उपकरण विवरण - इसमें परियोजना में उपयोग किए जाने वाले उपकरण और मशीनरी की व्यापक सूची देना होता है।
  • वाणिज्यिक जानकारी - इसमें बिजनेस प्लान के व्यवसायीकरण से संबंधित योजनाओं का ब्यौरा देना होता है।
  • बिजनेस का प्रोफाइल - बिजनेस की पृष्ठभूमि, लॉन्च, महत्वपूर्ण कदम और उपलब्धियों का विवरण देना होता है।
  • एक्सपोर्ट रिपोर्ट- घरेलू या अंतर्राष्ट्रीय एक्सपोर्ट की जानकारी देना होता है।
  • कर्मचारियों के बारे में जानकारी - इसमें यह जानकारी देना होत है कि बिजनेस प्लान में काम करने वाले कर्मचारियों की कुल संख्या कितना है।
  • प्रोडक्ट और सर्विस की जानकारी - बिजनेस प्लान में उपयोग किए जाने वाले सभी प्रोडक्ट और सर्विस का विवरण देना होता है।
  • लॉजिस्टिक विवरण – इसमें यह जानकारी देना होता हि आपके बिजनेस में सर्विस क्या या प्रोडक्ट का वितरण कैसे होगा।
  • मैन्यूफैक्चरिंग प्रक्रियाएँ - परियोजना में उपयोग की जाने वाली मैन्यूफैक्चरिंग प्रक्रियाओं के प्रकारों का विवरण देना होता है।
  • मार्केटिंग और विज्ञापन रणनीतियाँ – बिजनेस प्लान के मार्केटिंग और विज्ञापन रणनीतियों का विस्तृत विश्लेषण प्रस्तुत करना होत है।
  • उद्देश्य - उद्यम का उद्देश्य भी स्पष्ट रूप से उल्लेख करना होता है।
  • भूमि की आवश्यकता - यदि आवश्यक हो तो भूमि की आवश्यकता के बारे में जानकारी देना होता है।
  • तीसरे पक्ष का विवरण (यदि कोई हो) - परियोजना के साथ लगे हुए तीसरे पक्ष का विवरण भी प्रस्तुत करना होता है।
  • निष्कर्ष – अंत में अपने बिजनेस प्लान का निष्कर्ष भी प्रस्तुत करना होता है।

प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करते समय इस बात का खास ध्यान रखना होता है क आप मुद्रा लोन के किस कैटेगरी के लोन के लिए आवदेन कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त प्रोजेक्ट बनाते समय बिजनेस की प्रकृति का भी ध्यान रखना होता है। मुद्रा लोन तीन प्रकार का होता है-

  • शिशु लोन - 50,000 रुपये तक का लोन
  • किशोर लोन - 50,000 – 5 लाख रुपये तक का लोन
  • तरुण लोन - 5 से 10 लाख रुपये तक का लोन

प्रोजेक्ट प्रोफाइल के प्रकार

  • आटा चक्की का बिजनेस प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • पाम प्लेट मेन्युफैक्चरिंगपर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • पापड़ मेन्युफैक्चरिंग पर प्रोजेक्ट प्रोफ़ाइल
  • भुना हुआ चावल के गुच्छे पर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • फुट वेयर पर प्रोजेक्ट रिपोर्ट
  • नोट बुक मैन्युफैक्चरिंग पर प्रोजेक्ट रिपोर्ट
  • अचार इकाई पर प्रोजेक्ट रिपोर्ट
  • रेडीमेड गारमेंट्स पर प्रोजेक्ट रिपोर्ट
  • लकड़ी के फर्नीचर निर्माण इकाई पर प्रोजेक्ट रिपोर्ट
  • लाइट इंजीनियरिंग
  • कागज नैपकिन मेन्युफैक्चरिंग
  • कागज उत्पादों की मेन्युफैक्चरिंग (पेपर कप)
  • धातु आधारित उद्योग: कृषि औजार, कटलरी और हैन्डीक्राफ्ट
  • बेकरी उत्पादों पर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • कोकनट पाउडर पर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • स्टील फर्नीचर पर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • केले फाइबर निष्कर्षण और बुनाई
  • कंप्यूटर कोडिंग
  • मिल्क प्रोडक्ट्स
  • सामान्य इंजीनियरिंग वर्कशॉप
  • करी और चावल पाउडर पर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • डिटर्जेंट पावर और केक पर प्रोजेक्ट प्रोफाइल
  • रबरयुक्त कॉयर मेन्युफैक्चरिंग परियोजना
  • सैनिटरी नैपकिन मेन्युफैक्चरिंग परियोजना
  • टॉयलेट साबुन मेन्युफैक्चरिंग इकाई
  • टमाटर सॉस मेन्युफैक्चरिंग इकाई

Also Read:

ICICI-Prudential-Internal-page

बुनियादी समस्याओं का हल

राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?