कम सिबिल स्कोर वालों के लिए बिज़नेस लोन

आपका बिजनेस कितना पुराना है?
पिछले साल की बिक्री ?
प्रथम नाम
अंतिम नाम
मोबाइल नंबर
अपने शहर का नाम दें

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

Icon1

न्यूनतम कागजात

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं है

Icon4

प्री-पेमेंट चार्जेंस फ्री

6 EMI का भुगतान करने के बाद

Icon3

सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन

रकम आपके बैंक खाते में

कितना सिबिल स्कोर बेहतर होता है?

सिबिल स्कोर, इसे क्रेडिट स्कोर भी कहा जाता है। यह तीन अंको की एक संख्या होती है। सिबिल स्कोर की अधिकतम सीमा 900 होती है और न्यूनतम सीमा 300 होती है। इन्हीं तीन अंको की संख्या के हिसाब से यह तय होता है कि आवेदन करने वाले को बिजनेस लोन मिलेगा या नहीं मिलेगा। अगर बेहतर सिबिल स्कोर की बात करें तो 800 से 900 के बीच सिबिल स्कोर यानी क्रेडिट स्कोर को बेहतरीन सिबिल स्कोर माना जाता है।  

सिबिल स्कोर क्यों महत्वपूर्ण है? 

बैंक जैसी संस्थाओं से उन आवदेनकर्ताओं को लोन देने पर कम विचार किया जाता है, जिनका क्रेडिट स्कोर 600 से कम होता है। हालांकि, ऐसा नहीं है कि उन लोगों को लोन ही नहीं दिया जाता है। उन लोगों को भी लोन मिलता है। लेकिन, ब्याज की दरें मार्केट रेट की अपेक्षा अधिक लागू हो जाती हैं। एक फैक्ट यह भी है कि क्रेडिट स्कोर से किसी व्यक्ति की वित्तिय साख का पता चलता है। इसे फाइनेंशियल प्रोफाइल का आईना भी कह सकते हैं। इससे यह पता लगता है कि अमुख व्यक्ति ने अपने पिछले लोन का भुगतान किस प्रकार से किया है। सभी लोन और क्रेडिट कार्ड के भुगतान के रिपेमेंट के रवैया को ध्यान में रखकर क्रेडिट रिपोर्ट तैयार की जाती है। 

सिबिल स्कोर की जांच कैसे और कहां होती है?

क्रेडिट रिपोर्ट तैयार करने का कार्य सिबिल नामक कंपनी करती है। सिबिल कंपनी का पूरा नाम सिबिल या ट्रांसयूनियन सिबिल ब्यूरो (इंडिया) लिमिटेड (Credit Information Bureau (India) Limited) है। सिबिल कंपनी का कार्य लोगों की वित्तिय साख की जांच करना है। सिबिल कंपनी भारत की सबसे पुरानी और सबसे विश्वसनीय क्रेडिट सूचना कंपनी (CIC) है। इसके अलावा देश में चार और क्रेडिट रेटिंग एजेंसियां हैं, जिनका नाम क्रमशः है-  CRISIL, ICRA, CARE, ONICRA. 

सिबिल कंपनी के अलावा बैंकिंग सर्विसेज एग्रीगेटरों की वेबसाइट पर भी क्रेडिट स्‍कोर की जांच की जा सकती है। आपको जानकारी होना चाहिए कि सिबिल की वेबसाइट पर अपना क्रेडिट स्‍कोर चेक करने की सुविधा मुफ्त में मिलती है, लेकिन यह सीमित होती है। वहीं सब्‍सक्र‍िप्‍शन प्‍लान लेकर जब आप सिबिल स्कोर चेक करते हैं तो आपको विस्तृत क्रेडिट रिपोर्ट मिलता है।  

सिबिल स्कोर कम है तो क्या करें? 

बहुत बार ऐसा होता है कि व्यक्ति के पास खर्च बढ़ जाता है और इनकम सीमित ही होती है। ऐसे में न चाहते हुए भी लोन की ईएमआई और क्रेडिट कार्ड की बिल का भुगतान समय पर नहीं हो पाता है। जिसके वजह से सिबिल स्कोर प्रभावित होता है। आपको कुछ ऐसे उपाय बताते हैं, जिनसे सिबिल स्कोर ठीक करने में मदद मिलेगी- 

  1. हर तीन माह में सिबिल स्कोर की जांच करें। 
  2. अगर बेवजह सिबिल रिपोर्ट में कोई गड़बड़ी दिखती है, तो उसे ठीक करने के लिए सिबिल कंपनी को ईमेल करें। 
  3. क्रेडिट कार्ड का उपयोग तब ही करें, जब अति-आवश्यक हो। 
  4. लोन की ईएमआई तय समय पर जमा करें और क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान तय समय के भीतर करें। 
  5. बेवजह लोन के लिए पूछताछ न करें। 
  6. बैंक से अपनी क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने के लिए आवेदन करें। 
  7. अति-आवश्यक न हो तो किसी के लोन का गारंटर न ही बनें। 
  8. जिस बैंक खाते या क्रेडिट कार्ड का उपयोग न हो रहा हो, उसे बंद कर दें। 
  9. बिना कुछ गिरवी रखे बिजनेस लोन को प्राथमिकता दें।     

कम सिबिल स्कोर वाले के लिए बिजनेस लोन

अगर सिबिल स्कोर कम है या अधिक खराब है तो भी ऐसा नहीं है कि कारोबारी को बिजनेस लोन नहीं मिल सकता है। बिल्कुल मिल सकता है। कम सिबिल स्कोर वाले कारोबारियों को शार्ट टर्म बिजनेस लोन लेकर अपना क्रेडिट रिपोर्ट ठीक कर लेना चाहिए। कम क्रेडिट स्कोर के साथ सरकारी बैंको में लोन के लिए आवेदन करने से बचना चाहिए। क्योंकि, बैंक सीधे – सीधे सिबिल स्कोर पर ही यह तय करते हैं कि लोन मिलेगा या नहीं मिलेगा। तो वहां जाने से बचना चाहिए। कम सिबिल स्कोर वाले कारोबारियों को निम्न फाइनेंशियल संस्थाओं से बिजनेस लोन मिल सकता है- 

  1. नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों (एनबीएफसी) 
  2. स्मॉल फाइनेंस बैंक  
  3. माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूशंस   
  4. क्राउडफंडिंग  
  5. पीओएस लोन संस्थान  
  6. पीयर-टू-पीयर लेंडिंग 

इत्यादि, से कम क्रेडिट स्कोर के साथ बिजनेस लोन मिल सकता है। इस वित्तिय संस्थाओं द्वारा बिजनेस लोन देने का निर्णय सिर्फ सिबिल स्कोर पर ही नहीं, बल्कि कारोबार के कंडीशन और बिजनेस के सालाना टर्नओवर के आधार पर भी तय होता है। इन सब से एनबीएफसी से बिजनेस लोन प्राप्त करना सबसे आसान होता है।  

नॉन-बैकिंग फाइनेंस कंपनियों (NBFC) से बिजनेस लोन

फिनटेक सेक्टर का जबसे उभार हुआ है, तब से अनसेक्योर्ड लोन की कैटेगरी में एनबीएफसी बहुत तेजी से आगे बढ़े हैं। अगर किसी कारोबारी का सिबिल स्कोर कम भी है तो उसे एनबीएफसी से बिजनेस लोन मिलता है। क्योंकि, एनबीएफसी द्वारा बिजनेस के सालाना टर्नओवर के आधार पर बिजनेस लोन की पात्रता तय होती है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि देश की प्रमुख एनबीएफसी ZipLoan से 7.5 लाख तक का बिजनेस लोन, सिर्फ 3 दिन* में मिलता है। 

ICICI-Prudential-Internal-page

बुनियादी समस्याओं का हल

राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?